भाजपा सांसद ने बेटा खोने के बाद ‘शराब को ना’ अभियान शुरू किया

भाजपा सांसद ने बेटा खोने के बाद ‘शराब को ना’ अभियान शुरू किया

लखनऊ, | भारतीय जनता पार्टी के सांसद कौशल किशोर और उनकी पत्नी ने युवाओं को शराब की लत से बचाने के लिए एक अभियान शुरू करने का फैसला किया है। वे ज्यादा शराब पीने से लिवर सिरोसिस बीमारी का शिकार हुए अपने बेटे को खो चुके हैं। भाजपा सांसद ने अपने बेटे आकाश को अत्यधिक शराब पीने से लिवर सिरोसिस के कारण एक पखवाड़े पहले खो दिया। सांसद और उनकी पत्नी ने अब युवाओं को 3 दिसंबर से शराब की लत से बचाने के लिए एक अभियान शुरू करने की योजना बनाई है।

मोहनलालगंज के सांसद कौशल किशोर और उनकी पत्नी जया देवी, जो मलिहाबाद से भाजपा विधायक हैं, उस दिन एक हजार युवाओं को ‘शराब को ना’ कहने की प्रतिज्ञा दिलाएंगे।

डॉक्टरों का कहना है कि सिरोसिस विभिन्न प्रकार के कारणों से होने वाले लिवर की आखिरी स्टेज की बीमारी है। इसके प्रमुख कारणों में शराब का अत्यधिक सेवन शीर्ष पर है।

सांसद ने कहा कि वह इसे एक नियमित अभियान के रूप में चलाना चाहते हैं, जिसके तहत इन हजारों युवाओं को अभियान को आगे बढ़ाने के लिए कहा जाएगा।

किशोर ने पत्रकारों से कहा, “मेरे जीवन का सबसे बड़ा पछतावा यह है कि मैं कई ऐसे युवाओं से मिला, जिन्होंने शराब छोड़ा, लेकिन अपने ही बेटे के साथ ऐसा करने में असफल रहा।”

उन्होंने आगे कहा, “शराब ने उसकी जिंदगी बर्बाद कर दी। वह अपने पीछे पत्नी और दो साल का बेटा छोड़ गया है। मैंने उसकी आदत छुड़ाने की बहुत कोशिश की, लेकिन असफल रहा। जब मुझे कोरोनावायरस संक्रमण होने पर भर्ती कराया गया था, उस समय मेरे बेटे ने फिर से पीना शुरू किया और यह घातक साबित हुआ। मैंने अपने बेटे को खो दिया है, लेकिन अब मैं नहीं चाहता कि कोई भी माता-पिता इस दर्द से गुजरें।”

कौशल के बेटे आकाश किशोर की 19 सितंबर को मौत हो गई।

भाजपा सांसद ने कहा कि उनके अन्य तीन बेटे भी 3 दिसंबर से शुरू होने वाले इस गैर-राजनीतिक अभियान का हिस्सा होंगे।

उन्होंने आगे कहा, “हमें युवाओं को प्रेरित करने की जरूरत है, ताकि जो उन्हें शराबियों के क्लब में शामिल करने की कोशिश करते हैं, उन्हें वे ना कह सकें। मैं इसे एक राष्ट्रव्यापी आंदोलन बनाना चाहता हूं और जो इस नेक कार्य से जुड़ना चाहते हैं, उनसे हमने इस उद्देश्य के लिए 100 रुपये लेने का फैसला किया है।”

कौशल किशोर ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा अपने राज्य में शराब पर प्रतिबंध लगाने के फैसले की प्रशंसा की।

उन्होंने कहा, “यह पहली बार है, जब किसी को मजबूत रहने की जरूरत है। यह ताकत चेतना से आ सकती है और इस एहसास से कि शराब जिंदगी बर्बाद कर देती है, परिवारों को नष्ट कर देती है।”

कौशल और उनकी पत्नी दोनों ने लोगों को अपने प्रस्तावित अभियान के बारे में सूचित करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है।

English Website