इमरान को अंदेशा, भारत पाक के खिलाफ कर सकता है अफगान की धरती का इस्तेमाल

इमरान को अंदेशा, भारत पाक के खिलाफ कर सकता है अफगान की धरती का इस्तेमाल

इस्लामाबाद, | पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने आशंका व्यक्त की है कि भारत अफगान की धरती का इस्तेमाल पाकिस्तानी सरजमीं को अस्थिर करने और निशाना बनाने के लिए कर सकता है।

इस्लामाबाद में दो दिवसीय पाकिस्तान-अफगानिस्तान व्यापार एवं निवेश मंच के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “पाकिस्तान को डर है कि भारत अफगानिस्तान का इस्तेमाल हमें अस्थिर करने में करेगा।”

उन्होंने कहा, “हमने भारत के साथ दोस्ती करने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो सके। हमें लगता है कि भारत वैचारिक रूप से पाकिस्तान के खिलाफ है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार न केवल एक देश के रूप में पाकिस्तान के खिलाफ है, बल्कि अपनी मुस्लिम आबादी के भी खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि भारत में अल्पसंख्यकों का निरंतर दमन हो रहा है।

कश्मीर में भारत सरकार द्वारा लिए जा रहे निर्णयों के बारे में बात करते हुए, खान ने कहा कि यह निर्दोष कश्मीरियों पर अत्याचार करने पर आमादा है।

उन्होंने कहा, “अवैध रूप से भारतीय कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर में लॉकडाउन दमन और बर्बरता का सबसे खराब उदाहरण है।”

जहां खान की सरकार वैश्विक मुद्दों पर कश्मीर मुद्दे को नहीं उठाने के दबाव और आलोचना को महसूस कर रही है, तो प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने हमेशा हर क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मंच पर इस मुद्दे को उठाया है।

यह उल्लेख करना उचित है कि अमेरिका द्वारा अफगानिस्तान के विकास और प्रगति में भारत की बढ़ती भूमिका को देखने की इच्छा के बाद, पाकिस्तान लगातार भारतीय उपस्थिति बढ़ाने के वाशिंगटन के इरादे पर अपनी चिंताओं को जाहिर करता रहा है, जिसमें इसने कहा है सीमा सुरक्षा और अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच व्यापक संबंधों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

पाकिस्तान का कहना है कि नई दिल्ली अफगानिस्तान में आतंकी तत्वों के साथ मिली हुई है और इस्लामाबाद को निशाना बनाने के लिए उन्हें बढ़ावा दे रही है।

इस्लामाबाद ने अमेरिकी प्रशासन के साथ भी अपनी चिंताओं को उठाया है, क्योंकि वह अफगानिस्तान में बढ़ती भारतीय उपस्थिति को नहीं देखना चाहता है।

इस्लामाबाद ने वाशिंगटन के सामने भी अपनी चिंता जाहिर की है, क्योंकि वह अफगानिस्तान में भारत की बढ़ती मौजूदगी को नहीं देखना चाहता।

हालांकि, पाकिस्तानी दावे को नई दिल्ली ने हमेशा खारिज किया है।

English Website