महाराष्ट सरकार ने अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने का पाप किया : शिवराज

महाराष्ट सरकार ने अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने का पाप किया : शिवराज

भोपाल, | मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महाराष्ट सरकार पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को कुलचने का पाप करने का आरोप लगाया है। चौहान ने यह प्रतिक्रिया एक न्यूज चैनल के प्रमुख और पत्रकार अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर व्यक्त की। चौहान ने कहा कि, महाराष्ट्र सरकार ने देश के प्रतिष्ठित पत्रकार अर्नब गोस्वामी के खिलाफ बर्बर कार्रवाई कर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को कुचलने का पाप किया है। लोकतंत्र को कुचलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को रौंदने के कांग्रेस और महाराष्ट्र सरकार के इस कदम की मैं कड़ी निंदा करता हूं।

चौहान ने आगे कहा कि इमरजेंसी के समय कांग्रेस ने किस प्रकार पत्रकार और पत्रकारिता को कुचला था ये किसी से छुपा नहीं है। आज कांग्रेस की शह पर महाराष्ट्र सरकार ने इमरजेंसी जैसे हालात फिर बना दिये है। महाराष्ट्र सरकार द्वारा लोकतंत्र विरोधी, पत्रकारिता विरोधी इस कृत्य की मैं घोर निंदा करता हूं।

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा, महाराष्ट्र सरकार के इस लोकतंत्र विरोधी कदम के पीछे पूरी तरह से कांग्रेस है। कांग्रेस ने पहले भी लोकतांत्रिक परंपराओं का तार तार किया है। महाराष्ट्र में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को कुचला गया है, प्रेस की आजादी छीन ली गई है। महाराष्ट्र में इमरजेंसी से बदतर हालात हैं। जिन्होंने लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास किया अंतत: वे स्वयं समाप्त हो गए हैं।

English Website