बतौर पेशेवर मुश्किल समय से आपको सामंजस्य बिठाना होगा : बुमराह

बतौर पेशेवर मुश्किल समय से आपको सामंजस्य बिठाना होगा : बुमराह

नई दिल्ली, | अहमदाबाद में कोविड-19 लॉकडाउन और बारिश से जूझने के बाद भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को अपनी फिटनेस में सुधार करने की उम्मीद थी। इसके कारण वह 2019 के आखिर में अधिकतर समय तक टीम से बाहर थे और इस साल की शुरुआत में वह अपने फॉर्म में नहीं थे। हालांकि बुमराह ने आखिरकार अब अपनी फॉर्म हासिल कर ली है। आईपीएल-13 के पिछले 11 मैचों में वह अब तक 17 विकेट ले चुके हैं और सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में तीसरे नंबर पर हैं।

बुमराह लॉकडाउन के दौरान मार्च, अप्रैल और मई अहमदाबाद में थे। लॉकडाउन के कारण सबकुछ बंद था और यहां तक कि स्टेडियम भी बंद थे। लॉकडाउन के बाद उन्होंने अहमदाबाद के गुजरात कॉलेज में धीरे-धीरे अभ्यास करना शुरू किया था।

बुमराह अन्य क्रिकेटरों की तरह नियमित रूप से अभ्यास नहीं करते थे, लेकिन मुंबई इंडियंस कैम्प से जुड़ने के बाद ही उन्होंने नियमित रूप से अभ्यास करना शुरू किया था।

उन्होंने लॉकडाउन के दिनों को याद करते हुए कहा कि एक पेशेवर क्रिकेटर होने के नाते उन्हें इसके साथ सामंजस्य बिठाना होगा और बायो बबल में खेलने के लिए तैयार रहना होगा।

बुमराह ने मंगलवार को मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा, “मानसिक रूप से तरोताजा होना महत्वपूर्ण है। हमेशा बायो-बबल में रहना थोड़ा मुश्किल होता है। जब चीजें सामान्य होती है तो आप कॉफी के लिए जाते हैं और ताजा हवा में सांसे लेते हैं।”

उन्होंने कहा, ” यह मुश्किल है, लेकिन आपको वर्तमान में बने रहना है, जो चीजें आप कर सकते हैं उन्हें नियंत्रित करने की कोशिश करें, और बुलबुले में एक स्वस्थ वातावरण बनाने की कोशिश करें। लोगों के साथ रहने की कोशिश करें, एक-दूसरे से बात करने की कोशिश करें, एक दूसरे के साथ बातचीत करने की कोशिश करें, घर वापस आने वाले लोगों के साथ अच्छी बातचीत करने की कोशिश करें। ये सभी चीजें आपकी मदद करती हैं। समय कठिन हैं, लेकिन पेशेवर क्रिकेटर होने के नाते आपको इसके साथ सांमजस्य बिठाना होगा। हर किसी की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है। यह वही है जो आप करना चाहते हैं और यही चीज मैं भी करना चाहूंगा।”

भारतीय यॉर्करमैन ने सुपर ओवर में गेंदबाजी करने को लेकर कहा, ” दबाव वाली परिस्थितियों में गेंदबाजी करना हमेशा से मुश्किल होता है। मैं वहीं करता हूं, जो मेरे नियंत्रण में होती है। मैं वर्तमान में रहने की कोशिश करता हूं।”

English Website