सेंसेक्स 144 अंक चढ़कर 39,758 पर बंद हुआ, 11,669 पर निफ्टी

सेंसेक्स 144 अंक चढ़कर 39,758 पर बंद हुआ, 11,669 पर निफ्टी

मुंबई, | उतार-चढ़ाव के बीच कारोबार के बाद घरेलू शेयर बाजार सोमवार को आखिरकार बढ़त के साथ बंद हुआ। सेंसेक्स बीते सत्र से करीब 144 अंक चढ़कर 39,758 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 27 अंकों की बढ़त के साथ 11,669 पर ठहरा। बैंकिंग और वित्तीय सेक्टर के शेयरों में लिवाली से बाजार को सपोर्ट मिला। सेंसेक्स पिछले सत्र से 143.51 अंकों यानी 0.36 फीसदी की तेजी के साथ 39,757.58 पर बंद हुआ और निफ्टी भी 26.75 अंकों यानी 0.23 फीसदी की बढ़त के साथ 11,669.15 पर ठहरा।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 266.31 अंकों की तेजी के साथ 39,880.38 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स का ऊपरी स्तर 39,968.03 पर बंद हुआ, जबकि निचला स्तर 39,334.92 पर ठहरा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी भी बीते सत्र से 54.95 अंकों की बढ़त के साथ 11,697.35 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान निफ्टी 11,725.65 तक चढ़ा, जबकि इसका निचला स्तर 11,557.40 रहा।

बीएसई मिडकैप सूचकांक भी बीते सत्र से 54.09 अंकों यानी 0.36 फीसदी की तेजी के साथ 14,958.71 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक बीते सत्र से 106.19 अंकों यानी 0.71 फीसदी की कमजोरी के साथ 14,781.89 पर ठहरा।

सेंसेक्स के 30 शेयरों से में 20 शेयरों में तेजी रही, जबकि 10 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। सेंसेक्स के सबसे ज्यादा बढ़त वाले पांच शेयरों में इंडसइंड बैंक (7.10 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (6.25 फीसदी), एचडीएफसी (6.24 फीसदी), एक्सिस बैंक (6.13 फीसदी) और भारती एयरटेल (6.52 फीसदी) शामिल रहे।

सेंसेक्स के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच शेयरों में रिलायंस (8.62 फीसदी), एचसीएलटेक (2.49 फीसदी), टीसीएस (2.29 फीसदी), एशियन पेंट (1.85 फीसदी) और टाटा स्टील (1.84 फीसदी) शामिल रहे।

बीएसई के 19 सेक्टरों में से आठ सेक्टरों में तेजी रही, जबकि 11 सेक्टरों में गिरावट दर्ज की गई। सबसे ज्यादा तेजी वाले पांच सेक्टरों के सूचकांकों में बैंक इंडेक्स (4.17 फीसदी), वित्त (3.72 फीसदी),टेलीकॉम (3.84 फीसदी), रियल्टी (2.85 फीसदी) और पावर (0.82 फीसदी) शामिल रहे।

वहीं, सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच सेक्टरों में उर्जा (7.12 फीसदी), तेल व गैस (2.52 फीसदी), हेल्थकेयर (0.77 फीसदी),आईटी (0.68 फीसदी) और आधारभूत सामग्री (0.55 फीसदी) शामिल रहे।

English Website