रिलायंस के साथ डील भारतीय कानूनों के अनुरूप : फ्यूचर

रिलायंस के साथ डील भारतीय कानूनों के अनुरूप : फ्यूचर

मुंबई, | सिंगापुर की मध्यस्थता अदालत ने कर्ज से लदे फ्यूचर ग्रुप के रिटेल कारोबार को रिलायंस रिटेल द्वारा अधिग्रहण करने पर अस्थायी रोक लगाने का आदेश देने के बाद फ्यूचर ने कहा है कि रिलायंस रिटेल के साथ डील भारतीय कानूनों के अनुरूप है। इसने आगे कहा कि यह उस समझौते का पार्टी नहीं है, जिसके तहत अमेजन ने मध्यस्थता की कार्यवाही शुरू की है।

कंपनी ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए सभी उचित कदम उठाएगी कि प्रस्तावित लेनदेन बिना किसी देरी के आगे बढ़े।

फ्यूचर रिटेल ने एक रेगुलेटरी फाइलिंग में कहा, “एफआरएल द्वारा प्राप्त सलाह के अनुसार, सभी संबंधित समझौतों को भारतीय कानून और भारतीय मध्यस्थता अधिनियम के प्रावधानों द्वारा सभी इरादों और उद्देश्यों के लिए गवर्न किया जाता है और यह मामला कई मौलिक न्यायिक मुद्दों को उठाता है जो इस मामले की जड़ में जाते हैं।”

इसमें कहा गया है कि इस आदेश का अवलोकन भारतीय मध्यस्थता अधिनियम के प्रावधानों के तहत एक उपयुक्त फोरम में किया जाना चाहिए।

इसने आगे कहा कि फ्यूचर रिटेल ऑर्डर की जांच कर रहा है।

रविवार शाम, रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड ने एक बयान में कहा कि उसने उचित कानूनी सलाह के तहत फ्यूचर रिटेल लिमिटेड की संपत्ति और व्यवसाय के अधिग्रहण के लिए लेनदेन में प्रवेश किया है और भारतीय कानून के तहत अधिकार और दायित्व पूरी तरह से लागू हैं।

मध्यस्थता पैनल ने एक अंतरिम आदेश में, किशोर बियानी के नेतृत्व वाले फ्यूचर ग्रुप को रिलायंस रिटेल के साथ सौदे के लिए आगे नहीं बढ़ने का निर्देश दिया है।

एमेजॉन के एक प्रवक्ता ने कहा, “हम उस आदेश के लिए आभारी हैं जो मांगी गई सभी राहतें प्राप्त करता है। हम मध्यस्थता प्रक्रिया के एक त्वरित निष्कर्ष के लिए प्रतिबद्ध हैं।”

पिछले साल, एमेजॉन ने फ्यूचर कूपन्स, फ्यूचर समूह की इकाई में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया।

अगस्त में, रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) ने घोषणा की कि वह फ्यूचर ग्रुप से रिटेल, होलसेल, लॉजिस्टिक्स और वेयरहाउसिंग व्यवसाय का अधिग्रहण कर रही है।

अधिग्रहण उस योजना का हिस्सा है, जिसमें फ्यूचर ग्रुप उक्त बिजनेस को फ्यूचर एंटरप्राइजेज लिमिटेड (एफईएल) में ले जाने के लिए कुछ निश्चित कंपनियों को मर्ज कर रहा है।

English Website